Aap bhi badha sakte hai wi-fi ki range


 wi-fi ki range
Photo by Jadon Kelly on Unsplash

ज्यादातर लोग घर पर वाई - फाई के सहीं सिग्नल न आने से परेशान रहते हैं। अगर वाई - फाई की रेंज बढ़ाना चाहते हैं तो आपको कुछ खास ट्रिक्स को काम में लेना चाहिए।

 राउटर फर्मवेयर अपडेट करें

..................................................
हो सकता है कि आपके राउटर को सिर्फ एक अपडेट की जरूरत  हो। राउटर बनाने वाली कंपनियां ज्यादा स्पीड के लिए सॉफ्टवेयर में कोई ना कोई बदलाव करती रहती है। यदि वायरलेस नेटवर्क कमजोर नहीं पड़ा है फिर आपको अपने  फर्मवेयर को नियमित रूप से अपडेट करना चाहिए। इस तरह आपके वाई - फाई की परफॉर्मेंस में सुधार होता है, बेहतरीन फीचर्स मिलते हैं और सिक्योरिटी भी अपडेट रहती है।

लोकेशन सब कुछ है

.............................................
आप राउटर को कहां पर रखते हैं इससे वाई - फाई की रेंज पर असर पड़ता है। घर के सभी कमरे और स्पेस एक जैसा नहीं होते हैं। तथ्य यह है कि राउटर को सही जगह पर रखना चाहिए ताकि वायरलेस कवरेज अच्छा मिले। राउटर को घर के किसी कोने में रखने से बचे। राउटर को घर के सेंटर में रखना चाहिए। इस तरह राउटर के सिग्नल घर में हर जगह पर पहुंच जाते हैं।

आप की फ्रीक्वेंसी क्या है

.................................................
राउटर के नेटवर्क के
 एडमिनिस्ट्रेटर
 इंटरफेस की जांच करें। देखें कि यह ऑप्टिमम परफॉर्मेंस के लिए  कॉन्फ़िगर है या नहीं। यदि ड्यूल बैंड राउटर है तो बेहतर आउटपुट के लिए कॉमन 2.4  गीगाहटर्ज बैंड   के स्थान पर 5 गीगाहटर्ज बैंड काम लें।

 चैनल को बदलें

.............................................
अगर घनी आबादी में रहते हैं तो इंटरफेरेंस बड़ा मुद्दा हो सकता है। एक अच्छा राउटर अपने आप सबसे कम घने चैनल को काम में लेता है और बेहतर परफॉर्मेंस देने की कोशिश करता है। लेकिन यदि किसी चैनल को मेन्युअली चुनते हैं तो नियमित इसे चेक कर लेना चाहिए कि यह बेस्ट चैनल पर ही मौजूद हो। आप चाहे तो राउटर के लिए एक्सटर्नल एंटीना भी ले सकते हैं।

हार्डवेयर बदलें

.............................................
आपको अपने मौजूदा इक्विपमेंट को ही वाई - फाई के लिए काम में लेना चाहिए। लेकिन यदि आप पुराना हार्डवेयर इस्तेमाल कर रहे हैं तो बेस्ट परफॉर्मेंस नहीं मिल पाएगी। एक हाई क्वालिटी राउटर चैनल सिलेक्शन में बेहतर परफॉर्म करता है और इसमें बेहतर क्यूओएस फीचर्स होते हैं।  अच्छी परफॉर्मेंस के लिए आप रेंज एक्सटेंडर भी काम में ले सकते हैं।


क्वालिटी कंट्रोल 

..........................
आधुनिक राउटर्स क्वॉलिटी ऑफ सर्विस (क्यूओएस) टूल के साथ आते हैं। इस तरह आप ऐप्स द्वारा काम में लिए जाने वाले बेंडविर्थ के अमाउंट को सीमित कर लेते हैं। उदाहरण के लिए आप क्यूओएस को फाइल डाउनलोड के बजाय वीडियो कॉल के लिए प्राथमिकता तय कर सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments